अभी अभी ......


Saturday, January 2, 2010

मीडिया जगत से एक और ख़बर जल्द आ रहा है एक और न्यूज़ चैनल
इलेक्ट्रानिक मीड़िया में लंबे समय से जुड़े रहने के कारण म.प्र. औऱ छ. ग. के लिए मुझे संपर्क किया गया अच्छा ख़ासा पैसा भी ऑफर किया गया.........हमारी बात लगभग 1 घंटे तक चली और मामला समझ आया कि अगर पैसा चाहिए तो करों दलाली.....चैनल की आई ड़ी बांटना है.....हां हां भई बिल्कुल सही...मैने यही कहा है...आई ड़ी बाटना है......एक नई चीज़ सामने आई अब इसे चीज़ ही कहना ज्यादा अच्छा लग रहा है......औऱ पत्रकार (कुछ ऐसे जिन्हें आर SLP कहें तो ज्यादा अच्छा है).......अब SLP क्या है ये मत पूछना..........ख़ैर ......भी नये किस्म के अब ये यह नहीं कहते हैं कि चैनल के लिए काम कर रहे हैं .....अब ये कहते हैं कि फलां चैनल की आई ड़ी ले आय़ें हैं............और फिर दिल्ली में बैठे मीडिया मालिकों के लिए तो म.प्र. औऱ छ. ग. किसी मेडिकल कालेज में स्ट्रेचर पर लेटे उस लाश की तरह जिस पर सारे मेड़िकल स्टूड़ेट तमाम तरह की रिसर्च करते हैं...........तो भईयां ऐसा है यहां का माहौल................ फिलहाल इतना ही ...........

2 comments:

Kaviraaj said...

बहुत अच्छा । बहुत सुंदर प्रयास है। जारी रखिये ।

हिंदी को आप जैसे ब्लागरों की ही जरूरत है ।


अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानी-संग्रह, कविता-संग्रह, निबंध इत्यादि डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर पर पधारें । इसका पता है :

http://Kitabghar.tk

Kaviraaj said...

बहुत अच्छा । बहुत सुंदर प्रयास है। जारी रखिये ।

हिंदी को आप जैसे ब्लागरों की ही जरूरत है ।


अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानी-संग्रह, कविता-संग्रह, निबंध इत्यादि डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर पर पधारें । इसका पता है :

http://Kitabghar.tk