अभी अभी ......


Sunday, June 6, 2010

बड़ा मुश्किल है आदमी का पेड़ हो जाना

बड़ा मुश्किल है आदमी का पेड़ हो जाना,
पेड़ की गोद में हजारों घर बसते हैं
बड़ा मुश्किल है आदमी का पेड़ हो जाना ,
बडा मुश्किल है जड़ और चेतन के साथ एक हो जाना,
बड़ा मुश्किल है आदमी का पेंड़ हो जान

1 comment:

परमजीत सिँह बाली said...

बहुत सुन्दर रचना है बधाई...बहुत गहरी बात कही है...

नोट- कृपया Word Verification को हटाएं।